अब तक आपने फर्जी खबरों के बारे में सुना होगा. कार्यक्रम हुआ नहीं, पर खबर छप गई. पत्रकारिता के बीस साल के करियर में ऐसा होते कितनी ही बार देखा है. पर ब्रोहों के बाल खड़े कर देनी वाली खबर अमेरिका से आई. पिछले हफ्ते वहां वाशिंगटन पोस्ट अखबार लोगों में बंटा जिसमें ट्रंप सरकार गिरने की खबर थी. बाद में पता चला कि ये खबर ही नहीं, अखबार भी फर्जी था. सवाल अब अगला खड़ा हो रहा है, फर्ज करो कि ऐसा हिन्दुस्तान में हो जाए तो. हम जिसकी संभावना जता रहे हैं, हो सकता है कि प्रेस मीडिया से सताए, तड़पाए कुछ चितैरे इसकी प्लानिंग भी कर चुके होंगे. लौटते हैं वाशिंगटन पर तो सोचिए कि कैसे एक ही अखबार का लेआउट, खबर पैटर्न, फोटो.. सारी व्यवस्था जुटाई गई होगी. कहां प्रिंटिंग हुई होगी ?
क्या थी खबर ?
अमरीका में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के विरोधियों ने बुधवार को एक नामी अखबार द वाशिंगटन पोस्ट का नकली संस्करण छाप कर ट्रम्प के पद से इस्तीफा देने की अफवाह उड़ा दी। इतना ही नहीं, इस नकली अखबार को वाशिंगटन
डीसी के डाउनटाउन इलाके और व्हाइट हाउस के आसपास बंटवा भी दिया। व्हाइट हाउस के एक कोने और पेनसिल्वेनिया एवेन्यू में एक महिला लोगों को
बुला-बुलाकर मुफ्त में इस अखबार को बांटती देखी गई। द वाशिंगटन पोस्ट के इस नकली संस्करण के मुख्यपृष्ठ पर छह कॉलम में ट्रम्प के इस्तीफे को मुख्य खबर बनाया गया था। खबर का शीर्षक था ‘अनप्रेसिडेंटिड : ट्रंप हेस्टली डिपार्ट्स व्हाइट हाउस, एंडिंग क्राइसिस’। लीसा चुंग की तरफ से लिखी हुई खबर में दावा किया गया था कि ट्रम्प 30 अप्रेल 2019 को व्हाइट हाउस छोड़ देंगे। वाशिंगटन पोस्ट ने ट्विट के जिरए इस तरह के किसी अखबार को छापे जाने से इनकार किया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here